CBSE Class 9 Hindi Course B Syllabus 2018-19 Units, Chapters & Topics

0

CBSE Class 9 Hindi Course B Syllabus 2018-2019 Chapters, Topics and other details has been given in this article. If you are searching for CBSE Class 9 Syllabus of Hindi Course B subject for the academic year 2018-19, then you’ve landed in right place. Download CBSE Hindi Course B Class IX Syllabus 2018-19 pdf. Given CBSE Syllabus of Hindi Course B subject is officially released by the Central Board of Secondary Education (CBSE) for the year 2018 and 2019. Below you can find latest updates regarding CBSE Hindi Course B  Class 9 Syllabus, Chapters, Topics and unit Weightage.

Download CBSE Class 9 Hindi Course B Syllabus 2018

  • पठन कौशल गद्यांश व काव्यांश पर शीर्षक का चुनाव, विषय-वस्तु का बोध, भाषिक बिंदु/संरचना आदि पर लघु प्रश्न एवं  अति लघु प्रश्न
  • व्याकरण के लिए निर्धारित विषयों पर विषय-वस्तु का बोध, भाषिक बिंदु/संरचना आदि पर प्रश्न पूछे जाएंगे
  • पाठ्यपुस्तक स्पर्श भाग-1 व पूरकपाठ्यपुस्तक संचयन भाग-1
  • लेखन
Click Here Download the Class 9 Hindi Course B Syllabus PDF

CBSE Class 9 Hindi Course B Syllabus & Marks Weightage

परीक्षा हेतु भार विभाजन
विषयवस्तु उप भार कुल भार
1 पठन कौशल गद्यांश व काव्यांश पर शीर्षक का चुनाव, विषय-वस्तु का बोध, भाषिक बिंदु/संरचना आदि पर लघु प्रश्न एवं  अति लघु प्रश्न 15
अपठित गद्यांश (200 से 250 शब्दों के) (2×4) (1×1) 09
अपठित काव्यांश लघु प्रश्न (100 से 250 शब्दों के) (2×3) 06
2 व्याकरण के लिए निर्धारित विषयों पर विषय-वस्तु का बोध, भाषिक बिंदु/संरचना आदि पर प्रश्न पूछे जाएंगे(1×15) 15
1 वर्ण विच्छेद (2 अंक) 02
2 अनुस्वार (1 अंक), अनुनासिक (1 अंक) 02
3 नुक्ता (1 अंक) 01
4 उपसर्ग-प्रत्यय (3 अंक) 03
5 संधि (4 अंक) 04
6 विराम चिह्न (3 अंक) 03
3 पाठ्यपुस्तक स्पर्श भाग-1 व पूरकपाठ्यपुस्तक संचयन भाग-1
गद्य खण्ड 10 25
1 विद्यार्थियों की साहित्य को पढ़कर समझ पाने की क्षमता के आकलन पर आधारित पाठ्यपुस्तक स्पर्श के गद्य पाठों के आधार पर लघु प्रश्न (2×2) (1×1) 05
2 हिन्दी के माध्यम से अपने अनुभवों को लिखकर सहज अभिव्यक्ति कर पाने की क्षमता का आकलन करने पर आधारित पाठ्य पुस्तक स्पर्श के निर्धारित पाठों (गद्य) पर एक निबंधात्मक प्रश्न (1×5) 05
काव्य खण्ड 10
1 कविताओं के विषय, काव्य बोध, अर्थ, बोध व सराहना को सरल शब्दों में अभिव्यक्ति करने की क्षमता पर आधारित पाठ्यपुस्तक स्पर्श के काव्य खंड के आधार पर लघु प्रश्न (2×2) (1×1) 05
2 कविताओं के अपने अनुभवों को लिखकर सहज अभिव्यक्ति कर पाने की क्षमता का आकलन करने पर एक निबंधात्मक प्रश्न (1×5) (विकल्प सहित) 05
पूरक पाठ्यपुस्तक संचयन भाग-1 05
पूरक पाठ्यपुस्तक ‘संचयन’ के निर्धारित पाठों से एक प्रश्न (5×1) 05
4 लेखन
संकेत बिंदुओं पर आधारित विषयों एवं व्यावहारिक जीवन से जुड़े हुए विषयों पर 80 से 100 शब्दों में अनुच्छेद (5×1) (विकल्प सहित) 05 25
अभिव्यक्ति की क्षमता पर केन्द्रित अनौपचारिक विषय पर पत्र। (5×1) (विकल्प सहित) 05
चित्र वर्णन (20-30 शब्दों) (5×1) 05
किसी एक स्थिति पर 50 शब्दों के अन्तर्गत संवाद लेखन (5×1) 05
विषय में संबधित 20-25 शब्दों के अर्न्तगत विज्ञापन लेखन (5×1) 05
कुल 80

Time of examination is: 3 hours and Total marks awarded is: 80

Chapters & Topics in CBSE Class 9 Hindi Course B Syllabus 

व्याकरण बिंदु

  • वर्ण-विच्छेद, अनुस्वार, अनुनासिक, नुक्ता।
  • तरह-तरह के पाठों के संदर्भ में शब्दों के अवलोकन द्वारा उपसर्ग, संधि एवं प्रत्यय।
  • वाक्य के स्तर पर विराम चिह्नों का समुचित प्रयोग।

श्रवण (सुनने) और वाचन (बोलने) की योग्यताएँ

  • प्रवाह के साथ बोली जाती हुई हिंदी को अर्थबोध के साथ समझना। वार्ताओं या संवादों को समझना।
  • हिंदी शब्दों का ठीक उच्चारण करना तथा हिंदी के स्वाभाविक अनुतान का प्रयोग करना।
  • सामान्य विषयों पर बातचीत करना और परिचर्चा में भाग लेना।
  • हिंदी कविताओं को उचित लय, आरोह-अवरोह और भाव के साथ पढ़ना।
  • सरल विषयों पर कुछ तैयारी के साथ दो-चार मिनट का भाषण देना।
  • हिंदी में स्वागत करना, परिचय और धन्यवाद देना।
  • हिंदी अभिनय में भाग लेना।

श्रवण (सुनना) का परीक्षण : कुल 2.5 अंक ( ढाई अंक)

  • परीक्षक किसी प्रासंगिक विषय पर एक अनुच्छेद का स्पष्ट वाचन करेगा। अनुच्छेद तथ्यात्मक या सुझावात्मक हो सकता है। अनुच्छेद लगभग 150 शब्दों का होना चाहिए। या परीक्षक 2-3 मिनट का श्रव्य अंश (ऑडियो क्लिप) सुनवाएगा। अंश रोचक होना चाहिए। कथ्य /घटना पूर्ण एवं स्पष्ट होनी चाहिए। वाचक का उच्चारण शुद्ध, स्पष्ट एवं विराम चिह्नों के उचित प्रयोग सहित होना चाहिए।
  • परीक्षक को सुनते-सुनते परीक्षार्थी कागज पर दिए हुए श्रवण बोध के अभ्यासों को हल कर सकेंगे।
  • अभ्यास रिक्त स्थान पूर्ति, बहुविकल्पी या सत्य/असत्य का चुनाव आदि विधाओं में हो सकते हैं।
  • अति लघूत्तरात्मक 5 प्रश्न पूछे जाएंगे।

वाचन (बोलना) का परीक्षण : कुल 2.5 अंक ( ढाई अंक)

  • चित्रों के क्रम पर आधारित वर्णन : इस भाग में अपेक्षा की जाएगी कि परीक्षार्थी विवरणात्मक भाषा का प्रयोग करें।
  • किसी चित्र का वर्णन (चित्र व्यक्ति या स्थान के हो सकते हैं)
  • किसी निर्धारित विषय पर बोलना जिससे वह अपने व्यक्तिगत अनुभव का प्रत्यास्मरण कर सके।
  • परिचय देना। (स्व परिवार वातावरण/ वस्तु व्यक्ति पर्यावरण कवि /लेखक आदि) (1 अंक)
  • आधे-आधे अंक के कुल तीन प्रश्न पूछे जा सकते हैं। 1.5 (डेढ़ अंक)

कौशलों के अंतरण का मूल्यांकन

श्रवण (सुनना) वाचन(बोलना)
1 विद्यार्थी में परिचित संदर्भो में प्रयुक्त शब्दों और पदों को समझने की सामान्य योग्यता है, किंतु सुसंबद्ध आशय को नहीं समझ पाता। 1 विद्यार्थी केवल अलग-अलग शब्दों और पदों के प्रयोग की योग्यता प्रदर्शित करता है किंतु एक सुसंबद्ध स्तर पर नहीं बोल सकता।
2 छोटे सुसंबद्ध कथनों को परिचित संदर्भो में समझने की योग्यता हैं। 2 परिचित संदर्भो में केवल छोटे सुसंबद्ध कथनों का सीमित शुद्धता से प्रयोग करता है।
3 परिचित या अपरिचित दोनों संदर्भो में कथित सूचना को स्पष्ट समझने की योग्यता है। अशुद्धियाँ करता है जिससे प्रेषण में रूकावट आती है। 3 अपेक्षित दीर्घ भाषण में अधिक जटिल कथनों के प्रयोग की योग्यता प्रदर्शित करता है अभी भी कुछ अशुधियाँ करता है। जिससे प्रेषण में रूकावट आती है।
4 दीर्घ कथनों की श्रृंखला को पर्याप्त शुद्धता से समझता है और निष्कर्ष निकाल सकता है। 4 अपरिचित स्थितियों में विचारों को तार्किक ढंग से संगठित कर धारा प्रवाह रूप में प्रस्तुत कर सकता है। ऐसी गलतियाँ करता है जिनसे प्रेषण में रूकावट नहीं आती।
5 जटिल कथनों के विचार-बिंदुओं को समझने की योग्यता प्रदर्शित करता है, उद्देश्य के अनुकूल सुनने की कुशलता प्रदर्शित करता है। 5 उद्देश्य और श्रोता के लिए उपयुक्त शैली को अपना सकता है केवल मामूली गलतियाँ करता है।

टिप्पणी

  • परीक्षण से पूर्व परीक्षार्थी को तैयारी के लिए कुछ समय दिया जाए।
  • विवरणात्मक भाषा में वर्तमान काल का प्रयोग अपेक्षित है।
  • निर्धारित विषय परीक्षार्थी के अनुभव संसार के हों, जैसे – कोई चुटकुला या हास्य-प्रसंग सुनाना, हाल में पढ़ी पुस्तक या देखे गए सिनेमा की कहानी सुनाना।
  • जब परीक्षार्थी बोलना प्रारंभ करें तो परीक्षक कम से कम हस्तक्षेप करें।

पठन कौशल
पठन क्षमता का मुख्य उद्देश्य ऐसे व्यक्तियों का निर्माण करने में निहित है जो स्वतंत्र रूप से चिंतन कर सकें तथा जिनमें न केवल अपने स्वयं के ज्ञान का निर्माण करने की क्षमता हो अपितु वे इसका आत्मावलोकन भी कर सकें।

पढ़ने की योग्यताएँ

  • हिंदी में कहानी, निबंध, यात्रा-वर्णन, जीवनी, पत्र, डायरी आदि को अर्थबोध के साथ पढ़ना।
  • पाठ्यवस्तु के संबंध में विचार करना और अपना मत व्यक्त करना।
  • संदर्भ साहित्य को पढ़कर अपने काम के लायक सूचना एकत्र करना।
  • पठित वस्तु का सारांश तैयार करना।

लिखने की योग्यताएँ

  • हिंदी के परिचित और अपरिचित शब्दों की सही वर्तनी लिखना।
  • विराम चिह्नों का समुचित प्रयोग करना।
  • लिखते हुए व्याकरण-सम्मत भाषा का प्रयोग करना।
  • हिंदी में पत्र, निबंध, संकेतों के आधार पर कहानियाँ, वर्णन, सारांश आदि लिखना।
  • हिंदी से मातृभाषा में और मातृभाषा से हिंदी में अनुवाद करना।

रचनात्मक अभिव्यक्ति

  • वाद-विवाद
    विषय का चुनाव विषय-शिक्षक स्वयं करें।
    आधार बिंदु – तार्किकता, भाषण कला, अपनी बात अधिकारपूर्वक कहना।
  • कवि सम्मेलन
    पाठ्यपुस्तक में संकलित कविताओं के आधार पर कविता पाठ या मौलिक कविताओं की रचना कर कवि सम्मेलन या अंत्याक्षरी
  • आधार बिंदु
    • अभिव्यक्ति
    • गति, लय, आरोह-अवरोह सहित कविता वाचन
    • मंच पर बोलने का अभ्यास या मंच-भय से मुक्ति
  • कहानी सुनाना/ कहानी लिखना या घटना का वर्णन/लेखन
    • संवाद – भावानुकूल एवं पात्रानुकूल
    • घटनाओं का क्रमिक विवरण
    • प्रस्तुतीकरण
    • उच्चारण
  • परिचय देना और परिचय लेना
    पाठ्य पुस्तक के पाठों से प्रेरणा लेते हुए आधुनिक तरीके से किसी नए मित्र से संवाद स्थापित करते हुए अपना परिचय सरल शब्दों में देना तथा उसके विषय में जानकारी प्राप्त करना।
  • अभिनय कला
    पाठों के आधार पर विद्यार्थी अपनी अभिनय प्रतिभा का प्रदर्शन कर भाषा में संवादों की अदायगी का प्रभावशाली प्रयोग कर सकते हैं। नाटक एक सामूहिक क्रिया है, अतः नाटक के लेखन, निर्देशन संवाद, अभिनय, भाषा व उद्देश्य इत्यादि को देखते हुए शिक्षक स्वयं अंको का निर्धारण कर सकता है।
  • आशुभाषण – विद्यार्थियों की अनुभव परिधि से संबंधित विषय।
  • सामूहिक चर्चा – विद्यार्थियों की अनुभव परिधि से संबंधित विषय।

मूल्यांकन के संकेत बिंदुओं का विवरण

  • प्रस्तुतीकरण
    • आत्मविश्वास
    • हाव-भाव
    • प्रभावशीलता
    • तार्किकता
    • स्पष्टता
  • विषय वस्तु
    • विषय की सही अवधारणा
    • तर्क सम्मत
  • भाषा
    • अवसर के अनुकूल शब्द चयन व स्पष्टता।
  • उच्चारण
    • स्पष्ट उच्चारण, सही अनुतान, आरोह-अवरोह।

Following are the posts related to the CBSE Class 9 Syllabus 2018-19

  • CBSE Class 9 English Language and Literature Syllabus 2018
  • CBSE Class 9 Hindi Course A Syllabus 2018
  • CBSE Class 9 Hindi Course B Syllabus 2018
  • CBSE Class 9 Maths Syllabus 2018
  • CBSE Class 9 Science Syllabus 2018
  • CBSE Class 9 Social Science Syllabus 2018
  • CBSE Class 9 English Core Syllabus 2018
  • CBSE Class 9 Computer Applications Syllabus 2018
  • CBSE Class 9 Home Science Syllabus 2018

CBSE Students, need not to worry about the CBSE Class 9 HINDI COURSE B Syllabus 2018-19. In this article, we provided the Hindi Course B CBSE Class IX Syllabus along with the details of each and every Unit, chapter and topics. Refer once this article and go for CBSE Class 9 examination preparation. In this article, all the information is completely related to the CBSE Board. Generally CBSE  changes the Hindi Course B syllabus year to year. So to get Hindi Course B syllabus updates, keep follow this page and Don’t forget to share with your friends. They may also know the Hindi Course B CBSE Class 9 Syllabus 2018-19.

Leave A Reply

Your email address will not be published.